CBI चीफ की नियुक्ति लटकी, मल्लिकार्जुन खड़गे ने रिसर्च के लिए मांगा समय

 नई दिल्ली 
सीबीआई के नए चीफ की नियुक्ति के लिए गुरुवार को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय पैनल की बैठक हुई, लेकिन किसी नाम पर फैसला नहीं हो सका। पैनल में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी हैं और उन्होंने कोई फैसला लेने से पहले सभी प्रस्तावित नामों पर विचार करने के लिए वक्त मांगा। पैनल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और चीफ जस्टिस रंजन गोगोई हैं।  

एक सरकारी अधिकारी ने हमारे सहयोगी को बताया कि गुरुवार को बैठक हुई, लेकिन फैसला नहीं हो सका। उन्होंने कहा, 'गुरुवार की बैठक में किसी एक नाम पर सहमति नहीं बन सकी। सभी प्रस्तावित नामों पर पैनल में चर्चा की गई। जल्द ही चयन के लिए पैनल की बैठक होगी और नए सीबीआई प्रमुख की नियुक्ति का फैसला किया जाएगा।' 

सीबीआई में चले विवाद के बाद सूत्रों का कहना है कि सरकार बहुत सतर्कता से निर्णय लेना चाहती है। सूत्रों का कहना है कि सरकार की कोशिश है कि सीबीआई के नए चीफ की नियुक्ति आपसी सहमति के आधार पर हो। सीबीआई के पूर्व डायरेक्टर आलोक वर्मा और वरिष्ठता क्रम में दूसरे स्थान पर रहे राकेश अस्थाना के बीच घमासान के कारण सीबीआई की साख को काफी चोट पहुंची। वर्मा को जहां पद से हटा दिया गया, वहीं अस्थाना को भी सीबीआई से हटाकर फायर सर्विस, सिविल डिफेंस विभाग का डीजी बनाकर भेज दिया गया। 

सूत्रों का कहना है कि खड़गे ने सभी संभावित उम्मीदवारों के नाम पर विचार करने के लिए 70-80 आईपीएस अधिकारियों की लिस्ट मांगी है। सूत्रों का कहना है कि जिस बैच के अधिकारियों की लिस्ट उन्होंने रिसर्च के लिए मांगी है, उसमें अस्थाना भी शामिल हैं। 2017 में आलोक वर्मा को सीबीआई चीफ बनाए जाने का कांग्रेस ने विरोध किया था। 2018 नवंबर में वर्मा को छुट्टी पर भेजा गया और 9 जनवरी की उनकी पद से छुट्टी कर दी गई। 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *